Friday, August 7, 2009

पालीथीन समस्या का समाधान

पालीथीन का प्रयोग हमारे पर्यावरण को बहुत ही दूषित कर रहा है। घटिया स्तर कि पालीथीन के संपर्क मे आ कर खाद्य पदार्थ तो दूषित होते ही है इसके अलावा कई गाय भी पालीथीन के कारण मृत्यु का शिकार हों चुकी है। देश के हर शहरों मे बारिश होने पर नालियों मे पालीथीन के वजह से जल भराव जैसी विकट समस्या का सामना करना पड़ता है। पालीथीन मे प्रयोग होने वाले रासायनिक तत्व कृषि योग्य भूमि को भी बहुत नुक्सान पहुँचातें है क्यूंकि पालीथीन वर्षों तक नष्ट नही होती है। इस समस्या से निपटने के लिए हम सब मिलकर निम्न उपाय कर सकतें है।

  • अनुपयोगी प्लास्टिक, पालीथीन, कागज़ इत्यादि को अक बैग मे रखतें जायें और इकठ्ठा हों जाने पर कबाडी वाले को दे दे
  • निर्धन वर्ग के लोग पालीथीन को इकठ्ठा करके तकिया बना सकतें है अथवा उसकी रजाई बना सकतें है। इसके अलावा इसे गद्दा बना कर प्रयोग मे लाया जा सकता है।
  • गाँव मे कोयला जलने के लिए आज भी मिटटी का तेल का प्रयोग किया जाता है। इसके बजाय सूक्ष्म स्तर पर पालीथीन का प्रयोग कोयला जलाने के लिए किया जा सकता है।
  • धार्मिक अथवा सामाजिक कार्यक्रमों मे होने वाले भोज मे डिस्पोसेबल प्लेट व् ग्लास की बजाय पत्तल का प्रयोग किया जा सकता है।
  • भोज समारोह मे एक ही डिस्पोसेबल पानी के ग्लास को अलग अलग पेय पदार्थों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है ।
  • दूकानदारों को भी पालीथीन का कम से कम प्रयोग करना चाहिए तथा अपने ग्राहकों से निवेदन करके पालीथीन के बजाय झोले के प्रयोग हेतु प्ररित किया जा सकता है।
  • सरकार को पालीथीन के प्रयोग को कम करने के लिए आकर्षक स्लोगन जैसे "पालीथीन से करें इनकार- लायें जीवन मे बहार" को प्रसारित एवं प्रचारित करना चाहिए तथा पालीथीन के दुष्प्रभावों का भी प्रचार करना चाहिए।
  • पालीथीन के बजाय कपड़े, कागज़ के बैग व् थैले का प्रयोग करना चाहिए।
  • सरकार को पालीथीन खरीद केन्द्र बनने चाहिय जिससे प्रयोग मे ना आने वाली प्लाटिक व् पालीथीन को इकठ्ठा करके री-साइकिल किया जा सके।
  • पालीथीन के बैग मे खाद्य पदार्थ को भरकर बाहर नही फेकना चाहिए। इसको खाकर गाय जैसी उपयोगी जानवर कि मृत्यु भी हों सकती है।
इसी तरह के कई अन्य बातों को अमल मे लाकर हम पालीथीन के होने वाले दुष्प्रभावों से अच् सकतें है बस ज़रूरत है मिलजुल कर इस विषय पर काम करने कि और छोटी छोटी बातों पर अमल करने कि। आइये हम सब मिलकर पालीथीन को ना कहें और अपने पर्यावरण को स्वच्छ बनाएं।

Tuesday, July 21, 2009

किसी भी वेब पेज का चित्र उतरे तुंरत बिना किसी सोफ्टवेयर के

यदि का किसी भी जाल पृष्ठ (web page) का चित्र (screenshot capture) लेना चाहतें है तो यह बहुत ही आसान है वो भी बिना किसी सोफ्टवेयर (Screen Capture Software) के इंस्टाल किए हुए। इसके लिए आपको सिर्फ़ करना यह है कि उस वेब पेज के यू आर एल (URL) के पहले aviary.com/ और जोड़ दे और एंटर बटन (Enter Key) दबा दे। ऐसा करने से जिस भी वेब पेज का स्क्रीन शोट आप लेना चाहते है उसे अपने डेस्कटॉप पर सेव कर सकतें है या सेव कर ऑनलाइन होस्ट (Online Host) कर सकतें है। उदाहरण के लिए आप www.google.com का स्क्रीनशॉट (चित्र) उतरना चाहतें है तो आप उसके पहले aviary.com/ जोड़ दे। तो अब पूरा यू आर एल हों जाएगा aviary.com/www.google.com


aviary कि मदद से आप किसी भी वेबसाइट का चित्र तो उतार ही सकतें है साथ ही साथ उसे छोटा या बड़ा या इमेज एफ्फेक्ट्स भी दे सकतें है है न रोचक और बिल्कुल आसान...

Monday, July 13, 2009

पायें याहू व् जीमेल ईमेल की सूचना अपने मोबाइल पर

यदि आपका गूगल या याहू मे ईमेल खता है तो एक बढ़िया ख़बर है आपके लिए। अब आप अपने सभी नए ईमेल कि सूचना अपने मोबाइल पर पा सकते है वो भी बिल्कुल मुफ्त मे। ये सुविधा लाया है way2sms. आपको बस Way2Sms पर अपना एक खाता खोलना होगा और फ़िर आप भारत के किसी भी मोबाइल पर मुफ्त मे Sms भेज सकते है। इसके अलावा आप इसी खाते से अपने गूगल मेल एवं याहू मेल के ईमेल चेक कर सकते है। और वहीँ से गूगल टॉक तथा याहू मेसेंजर के मित्रों से चाट भी कर सकतें है। याहू और जीमेल के ईमेल के एलेर्ट्स भी आपको अपने मोबाइल पर मिलती रहेगी जिससे आप अपने किसी भी आवश्यक ईमेल को मिस नही कर पाएंगे। है न मजेदार?

तो सबसे पहले जाइये Way2Sms पर और अपना अपने मोबाइल नम्बर से एक खाता खोलिए।
उसके बाद एक ईमेल प्रयोक्ता नाम बनाईये
अब जीमेल की सेटिंग्स मे जाईये

अब अपने जीमेल की सेटिंग्स मे जाकर मेल फारवर्डिंग मे अपनी Way2Sms emeil id डाल दीजिये।
इसी तरह याहू मे भी आपको करना होगा
बस अब जो भी ईमेल याहू या जीमेल पर आएँगी आपको तुंरत अपने मोबाइल पर संदेश प्राप्त हों जाएगा। आप इन इमेल्स को Way2Sms के inbox में भी पढ़ सकते है।
अब आप SMS करे, चैट करें या ईमेल करे सब एक ही खाते से संचालित होगा।
है न मजेदार एवं उपयोगी? तो फ़िर देर किस बात की अभी जाईये और खोलिए अपना खाता Way2Sms पर

Thursday, April 16, 2009

आपके अपने छोटे भाई तो नेता है

जी हां अब जब चुनाव सर पर है तो जिनके दर्शन ही मुश्किल से होते थे आज हर एक को अपना भाई बनाये फ़िर रहे है। गली गली घूम कर सभाएं कर भाईचारा बढाया जा रहा है। चुनाव समाप्त हुए नही की उनके दर्शन दुर्लभ हों जायेंगे। और यदि किसी कार्यवश आपको उनसे मिलना हों तो ....बहुत मुश्किल! आज हर चौराहे पर जन सभाएं हों रही है। पार्टी के नेता और कत्याकर्ता अपनी अपनी पार्टी के गुणगान करने और दूसरी पार्टियों की बुराईयाँ गिनाये जा रहे है। जिस भी तरह हों बस चुनाव तो जीतना है। भले ही चाहे जितने दुष्कर्म किए हों पर आज कितने भोले बन कर हाथ जोड़े मुस्कुराते हुए वोट की भीख मांगते सड़क पर घूम रहे है। सचाई तो ये है की कोई भी पाक दामन नही है। हर एक नेता किसी न किसी रूप मे अपराध से जुडा है। या तो वे ख़ुद ही किसी अपराध मे लिप्त रहे है या उनके छत्रछाया मे अपराधी पल रहे हों।

आज ज़रूरत है हर भारत के सच्चे नागरिक को इन मुखौटा पहने हुए मुस्कुराते हुए नेताओं की असलियत को पहचानने की। आज तो कोई सच्चा नेता चुनाव मे खड़ा ही नही हों पता है. जों सच्चा ईमानदार व्यक्ति अगर नेता बनता भी है तो वो नेता बनते ही सच्चाई और ईमानदारी भूल जाता है. आज हमें चुनना है उनमे से किसी एक को जिसके दामन कम गन्दा हों। जों की एक कठिन कार्य है। पर अगर ऐसा नही किया तो फ़िर वो जीतेगा जिसके हाथ मे हम अपना देश प्रदेश तो क्या अपने घर की कोई ज़िम्मेदारी देना पसंद नही करेंगे।

मित्रों वोट दीजिये तो बहुत सोच समझ कर। मीठी मीठी बातों और किसी लालच मे न फस कर एक साफ़ सुथरी सरकार यदि चाहते है जों प्रदेश और देश की तरक्की करे तो ये कर्तव्य हमें ज़रूर निभाना है। वोट ज़रूर दे और किसी अच्छे को ही चुने वरना ये हमारा ही धन हमसे छीन कर मौज उडाएंगे और आप सिर्फ़ पछतायेंगे और पाँच साल तक हाथ मलते रह जायेंगे...

Friday, March 27, 2009

गूगल एडसेंस विडियो यूनिट अप्रैल से बंद हो रहे है

गूगल एडसेंस अप्रैल से एडसेंस विडियो यूनिट को बंद कर रहा है। एडसेंस के सेटअप पृष्ठ पर इसकी सूचना गूगल द्वारा दी जा रही है। यदि आपने अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर गूगल एडसेंस के विडियो यूनिट लगायें है तो वे अप्रैल से दिखना बंद हो जायेंगे। गूगल ने विडियो यूनिट्स की शुरुआत अक्टूबर २००७ से शुरू की थी लेकिन ये एडसेंस प्रयोक्तायों लिए ज़्यादा फायेदेमंद साबित नही हो रहा था। इसी वजह से संभवतः गूगल ने इसे बंद करने कि सोची है। आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट से इसे हटा ले ताकि वह स्थान रिक्त न हो जाए। देखते है भविष्य मे गूगल एडसेंस मे क्या कम करता है और क्या नया जोड़ता है.

Saturday, March 14, 2009

एक अजन्मी बेटी कि चिट्ठी माता पिता और समाज के नाम

चार माह कि बच्ची थी। इस इंतज़ार मे कि इस दुनिया मे आएगी, खूब पढेगी लिखेगी और अपने माता पिता का नाम रोशन करेगी। अनेकों रिश्तों को अपने भीतर समेटे हुए एक नई दुनिया मे आने के उल्लास से भरी हुई थी। पहले बेटी का फ़र्ज़ निभाएगी और फ़िर एक पत्नी का और फ़िर एक माँ का। रक्षाबंधन पर अपने प्यारे भाई कि कलाई पर राखी बांधेगी... पर उसे क्या पता था कि बाहर क्या हो रहा है। उसके माँ बाप और परिवार वालों को तो सिर्फ़ बेटे का इंतज़ार था। मशीनों के ज़रिये चुपके से उसकी जांच पड़ताल कराई जा रही थी और यह जानकर कि वह एक कन्या है उसे मारने कि तैयारी चल रही थी। पर न जाने कैसे उसे भनक लग गई और आँख मे आंसू लिए फ़िर उसने मरते मरते लिखी एक चिट्ठी......

प्यारे मम्मी पापा और प्यारे समाज
क्यूँ मार दिया मुझे आपने
इस दुनिया मे आने से पहले
क्यूँ मार दिया मुझे आपने
यह जानकर कि मै एक लड़की हूँ?
क्या यह सोचकर कि
बनूँगी आपके जीवन पर एक बोझ
जिसे ढोना पड़ेगा मेरी शादी तक
मुझे खिलाओगे पिलाओगे
पढाओगे लिखाओगे और एक दिन
करना पड़ेगा विदा
भेजना पड़ेगा परदेस
बांधना पड़ेगा मुझे किसी खूटे से
एक निरीह गाय की तरह
क्या इस डर से मार दिया मुझे आपने
इस दुनिया मे आने से पहले?
कि जुटाना पड़ेगा दहेज़
विवाह मे जाने होगा कितना दहेज़
जुड़ पाया दहेज़ तो गिरवी रखनी होगी
जमा पूँजी, मकान और जीवन,
क्या इस वजह से मार दिया मुझे
अरे अगर लगता है बेटी एक बोझ
तो देखो एक बार अपनी माँ की तरफ़
वो भी थी किसी कि बेटी
और अगर वोह भी मार दी गई होती
पैदा होने से पहले तो
नही होता आपका कोई अस्तित्व
किसी कि बेटी के कारण ही
है आज है आप लोगों का जीवन
और आज हो गई है नफरत
आपको अपनी ही बेटी से
क्या इसी लिए मार दिया आपने
मुझे इस दुनिया मे आने से पहले?
मेरे मम्मी पापा और मेरे प्यारे समाज
अगर आप सब ऐसे ही मारते रहे
ढूंढ ढूंढ कर बेटिओं को
इस दुनिया मे आने से पहले
तो कैसे आयेंगे भविष्य मे बेटे?
क्यूंकि बेटा भी तो जानती है माँ
और बेटी ही तो बनती है एक माँ
काश आप मुझे मरने से बचा लेते
मुझे आने देते इस संसार मे
मै नही बनती आप पर कोई बोझ
मै पढ़ लिख कर अपने पैरों पर खड़ी हो सकती थी,
और ठुकरा सकती थी दहेज़ लोभी वर को
मै अपनी आत्म शक्ति और आत्मनिर्भरता से
लड़ लेती इस संसार से
मै भी उड़ना चाहती थी
स्वछंद आकाश मे
पर आपने छीन ली मुझसे
मेरी इच्छाएं और आकांक्षाएं
और मर जाने दिया मुझे अपने स्वार्थ मे
आपके इस अपराध के लिए
मै आपको कभी माफ़ नही कर सकती
कभी नही , कभी नही , कभी नही
----आपकी अजन्मी बेटी

Sunday, January 11, 2009

अमेरिका के फैली भयावह बेरोजगारी

सब प्राइम संकट ने अमेरिका कि चूलें हिला कर रख दी है। कल वह अमेरिका जो विश्व मे सुपर पावर कि हैसियत रखता ता आज ख़ुद आर्थिक संकट के पहाड़ के नीचे दबा हुआ है। इस संकट से उबरने मे अमेरिका को कितना वक्त लगेगा इसका अमेरिका को भी पता नही है। आज स्तिथि यह है कि बेरोजगारी ७.२ % पहुँच गयी है। २००८ के दिसम्बर माह मे ५ लाख २४ हजार लोग बेरिजगार हुए है। पिछले चार महीने मे ही २० लाख से ज़्यादा लोग बेरोजगारी के काल मे समा गए। अमेरिका के संकट ने न सिर्फ़ अमेरिका को डुबोया है बल्कि साड़ी दुनिया को उसकी चपेट में ले गया। आज दुनिया भर के देशों मे आर्थिक मंदी ने हालत बिगाड़ कर रख दी है । भारत के राष्ट्रीय दैनिक ने आज अपने एक लेख मे लिखा है कि साउथ कोरिया मे तो स्तिथि इतनी ख़राब है कि वहां के वैज्ञानिकों ने सफाई कर्मचारी कि नौकरी के लिए आवेदन किया है।

खैर पूरे विश्व मे आर्थिक मंदी के बादल तो अभी छाए है जिसको छटने मे अभी वक्त लगेगा पर इतना तो साफ़ हो गया है कि भारत कि आर्थिक स्तिथि अन्य देशों के मुकाबले मे सुद्रण बनी हुई है। भारत के आर्थिक और बैंकिंग नीती ने देश को आर्थिक रूप से टूटने मे काफ़ी हद तक बचा कर रखा है। भारत ने पूरी दुनिया को दिखा दिया है कि अर्थव्यवस्था पर बहुत आश्रित नही है। ऐसी स्तिथि के कारण भविष्य मे भारत को विदेशी निवेशकों से भारत मे निवेश कि प्रबल संभावना है। मुझे तो विशवास है कि १०-१५ वर्षों मे भारत पूरे विश्व मे आर्थिक रूप से एक महाशक्ति के रूप मे उभर कर आएगा और विश्व मे एक महाशक्ति के रूप मे उभरेगा। देखिये वक्त के साथ साथ भारत और क्या नए नए आयाम स्तापित करता है।